सोमवार, 29 जून 2009

जानिए विवाह से सम्बंधित कुछ अपराधों को ..

आज के अंक में जानते हैं की भारतीय कानून में विवाह से सम्बंधित भी कुछ अपराध वर्णित हैं...वो कौन कौन से हैं..किस तरह के हैं और उनमें कितनी सजा का प्रावधान है..आदि आदि...

भारतीय दंड संहिता की धारा ४९३ के अनुसार कोई भी व्यक्ति, किसी भी महिला से , जो की कानूनी रूप से उसकी पत्नी नहीं है, मगर समझती है की वो उस व्यक्ति की विवाहिता है, यदि , उस महिला के संसर्ग में (शारीरिक रिश्ते ) आता है तो वो दंड का भागी बँटा है , क्यूंकि ये कानूनन जुर्म है. इस धारा के अनुसार दो तथ्यों की अपरिहार्यता होती है..

.पहली ये की कानूनन वैध शादी का धोखा होना .
.और दूसरा इस धोखे में ही संसर्ग होना.

इस जुर्म के लिए सिद्ध ये करना होग की आरोपी व्यक्ति ने उस महिला को jaanboojh कर उसे इस धोखे में रखा की वो कानून उसकी वैध पत्नी है ...और इसी विश्वास के तहत ही उसके साथ संसर्ग स्थापित किया गया

ये अपराध .गैर संज्ञेय, गैर जमानती तथा non कम्पौंदेबल है..और कानून के अनुसार इसमें दस वर्षों की सजा और जुर्माने का प्रावधान है

बहु-विवाह :-

भारतीय दंड संहिता की धारा 494 के अनुसार कोई भी व्यक्ति यदि अपने jivan साथी के जीवित होते हुए दूसरा विवाह kartaa है तो उसे बहु विवाह का दोषी माना जाएगा. इस अपराध के लिए उसे सात वर्षों की सजा हो सकती है. मगर इस कानून से जुड़े कुछ महतवपूर्ण तथ्यों का जिक्र आवश्यक हो जाता है.. ये कानून मुस्लिम धर्म के अनुयायीं(सिर्फ पुरुषों ) पर लागु नहीं होता क्यंकि शरीयत काननों के अनुसार उन्हें इसकी इजाजत मिली हुई है, is कानून के बावजूद दो स्थितियों में ये अपराध नहीं माना जाएगा.

यदि किसी न्यायालय द्वारा उस विवाह को कानूनी मान्यता दे दी है....

उस स्थिति में भी जब पहले पति या पहली पत्नी का ,,..सात वर्षों तक कोई अता -पता न चले..

सबसे महत्वपूर्ण बात ये की ,,कानून की नजर में दूसरी पत्नी और doosre पति को..भी वो सारे अधिकार प्राप्त हैं तो...बशर्ते की विवाह वैध हो .(.वैध और अवैध/अपूर्ण विवाह पर चर्चा फिर कभी )

कल बात करेंगे ..धरा ४९८ की जो इन दिनों दुरूपयोग किये जाने की शिकायत के कारण चर्चा में है.

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी जानकारी,
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी जानकारी दे रहे हैं.

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत उपयोगी जानकारी है आभार्

    जवाब देंहटाएं
  4. Sir kisi ldki ka bachpn me ball vivah hua ho
    Or vo ldki 21 ki age me kisi dusre ldke se cout marriage krti h to is case me 494 ki dhara ka kya seen hota h plz rep me

    जवाब देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  6. Sir, ydi koi ladki 3.5 saal se bahar Rh rhi h our na hi make me h our na sasural me our usko gujara Bhatta de rha h to kya ldka dushri sadi kr leta h
    To ldka ka kya hoga sir
    Please and.me

    जवाब देंहटाएं
  7. sir meri shadi ko 1sal ho gaya hai aur hamara mgmla man mutao ko lekar chal .parivar paramarsh kendar me chal raha tha to meri patni ne mere shath rahne se mana kar diya aur usne cort marige karli hai bina tlak liye aur 5mahine ho gaye hai to me .keya karu
    .Mb.7827849492 jarur btaye dhanybad

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. पहले विवाह का विच्छेदन किए बगैर दूसरी शादी कानूनी रूप से वैध नहीं मानी जाएगी | आप धारा ९ के तहत पत्नी की घर वापसी के लिए मुकदमा कर सकते हैं | मेरा मोबाइल 9871205767 है आप संपर्क कर सकते हैं

      हटाएं

आपकी टिप्पणियों से उत्साह ...बढ़ता है...और बेहतर लिखने के लिए प्रेरणा भी..। पोस्ट के बाबत और उससे इतर कानून से जुडे किसी भी प्रश्न , मुद्दे , फ़ैसले पर अपनी प्रतिक्रिया देना चाहें तो भी स्वागत है आपका ..बेहिचक कहें , बेझिझक कहें ..