इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शुक्रवार, 26 जून 2009

जानिए अपने कुछ कानूनी अधिकार .....


आज इस पोस्ट के जरिये कुछ छोटे छोटे..मगर बहुत महतवपूर्ण अधिकारों का उल्लेख किया जा रहा है...जो समय असमय किसी के भी काम आ सकती हैं...कम से कम उनकी जानकारी होने से ..बहुत सी कठिनाइयों को समझा जा सकता है...आप खुद ही देखें.

गिरफ्तारी से सम्बंधित :-
किसी भी व्यक्ति को बेडी और हथकरियों..में तब तक नहीं रखा जा सकता जब तक अदालत द्वारा पुलिस को इस बात का लिखित अधिकार न दिया गया हो .

जो भी पुलिस अधिकारी आपको गिरफ्तार कर रहा है/हैं ,उनकी नाम पट्टिका स्पष्ट रूप से लगी होनी चाहिए, जिसमें उनका नाम पढा जा सके,, यानि उसकी पहचान गिरफ्तार हो रहे व्यक्ति को होनी चाहिए.

गिरफ्तार किये जा रहे व्यक्ति को गिरफ्तार करते समय ये बताना जरूरी है की उसे किस जुर्म के कारण गिरफ्तार किया जा रहा है और ये भी की गिरफ्तार हो रहा व्यक्ति अपने बचाव में वकील कर सकता है.

गिरफ्तारी का प्रपत्र (गिरफ्तारी मेमो ) तिथि ..एवं .समय के साथ ..गिरफ्तारी के समय ही तैयार की जानी चाहिए...उसके ऊपर घर के किसी सदस्य / पडोसी , या अन्य किसी उपस्थित व्यक्ति के हस्ताक्षर होने चाहिए...ये इसलिए ताकि उसकी गिरफ्तारी गुपचुप न रह सके....

पुलिस के लिए अनिवार्य है की गिरफ्तारी की सूचना ..उसे दे ..जिसे ग्फिराफ्तार होने वाला व्यक्ति अपना शुभचिंतक और मददगार समझता हो..तथा ये भी की गिरफ्तार व्यक्ति को कहाँ रखा या ले जाया जा रहा है....

गिरफ्तार होते समय..मुलजिम और गावः को दिखाते हुए..गिरफ्तार हो रहे व्यक्ति से जब्त की गयी सभी वस्तुओं की एक स्पष्ट सूची बनायी जानी चाहिए.

कानूनी सहायता :-
यदि कोई गरीब वकील नहीं कर सकता ..तो वो सरकारी खर्चे पर अपने बचाव के लिए वकील मांग सकता है.

यदि आपका वकील ,,आपको लगता है की ..आपके लिए ठीक से मुकदमा नहीं लड़ पा रहा है..तो आप वकील बदल सकते हैं...

आपको पूरा अधिकार है की अपने वकील से कोई भी बात..कोई भी सलाह ..गुप्त रूप से भी कर सकते हैं..

तलाशी (जांच ) से सम्बंधित :-
जब भी किसी के घर..दफ्तर..प्रांगन..अदि की तलाशी ली जाए तो ये जरूरी है तो स्वतंत्र गवाह...यानी आम लोगों में से कोई दो ,
वहाँ तलाशी के समय उपस्थित हों..

तलाशी लेने से पहले ..उस पुलिस पार्टी की तलाशी भी उस गवाह /गवाहों के सामने ..भी लेनी चाहिए...

चलिए फिलहाल इतना ही...कल एक आलेख ..कैसे लें निर्वाह भत्ता ........?

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत उपयोगी जानकारी। पुलिस शायद इन नियमों को सदा ताख पर रखकर ही चलती है। कभी इस बात पर भी प्रकाश डालिये कि इन अधिकारों को जानने वाला क्या करे कि उसके साथ उचित प्रक्रिया से ही पुलिस पेश आये, अवैध प्रक्रिया (मनमानी) से नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत उपयोगी जानकारियां, लेकिन मेने देखा इस से विपरित होते ही,
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाँ ॥आप लोगों की चिन्ता ठीक ही है। मगर यदि आप अड जाये तो ॥पुलिस ज्यादा मन्मानी नही कर सक्ती है

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत उपयोगी जानकारियां.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत उपयोगी जानकारियाँ दी हैं आप ने। प्रसन्नता है कि विधि के विषय में जानकारियाँ देने वाले हिन्दी ब्लागों की संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. SIR AAP KA BLOCK PADKAR ACCHA LAGA IS LOGO MAI JAGRUTA BADHGI LEKIN ENTERNET KAM LOG HI JANTA HAI KYA AGAR AAP ENTERNET K SATH SATH AGAR APNI BATE JANTA S NEW PAPER K DWARA KAHE TO LOGO KO AUR ADHIK LOG IS JANKARI KA LAB L SAKENGA AAPKA KAM KABLATARIF HAI

    HAME AAPKE VICHARO S BHAUT ADHIK PRABHAVIT HAU HAI

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों से उत्साह ...बढ़ता है...और बेहतर लिखने के लिए प्रेरणा भी..। पोस्ट के बाबत और उससे इतर कानून से जुडे किसी भी प्रश्न , मुद्दे , फ़ैसले पर अपनी प्रतिक्रिया देना चाहें तो भी स्वागत है आपका ..बेहिचक कहें , बेझिझक कहें ..

Google+ Followers